भारतीय भाषाओं द्वारा ज्ञान

Knowledge through Indian Languages

Dictionary

Definitional Dictionary of Metallurgy (English-Hindi) (CSTT)

Commission for Scientific and Technical Terminology (CSTT)

A B C D E F G H I J K L M N O P Q R S T U V W X Y Z

Work hardening (stress hardening)

कर्म कठोरण
देखिए– Hardening

Working

कर्मण
किसी धातु की लंबाई-चौड़ाई में वृद्धि करने अथवा उसके भौजिक और यांत्रिक गुणधर्मों में सुधार करने के उद्देश्य से उसका यांत्रिक उपचार करना। इनमें बेलन, कर्षण, फोर्जन, बहिर्वेधन, निपीडन और प्रचक्रण (Spinning) सम्मिलित है। इस उपचार की दो विधियाँ हैं :–
अतप्त कर्मण (Cold working)
पुर्नक्रिस्टल ताप से नीचे किसी धातु का स्थायी विरूपण करना। सामान्यतः ऊष्मा का उपयोग किए बिना बेलन, धनताड़न, कर्षण, निपीडन आदि विधियों द्वारा उपयुक्त आमाप, परिसज्जा अथवा कठोरता प्राप्त करना।
2. तप्त कर्मण (Hot working)
पुर्नाक्रिस्टलन ताप से ऊपर धातु का यांत्रिक कर्मण। तापन द्वारा सुघट्य बनाने के बाद बेलन, धनताड़न, निपीडन, वेधन, मुद्रण, फोर्जन, कर्षण आदि विधियों द्वारा उसका उपचार करना।
देखिए– Mechanical working भी

Work roll

कार्य बेल्लन
देखिए– Roll के अंतर्गत

Wrinkling

वलीयन
धातु-पृष्ठ पर झुर्रियों का पड़ना अथवा धातु पृष्ठ का सिकुड़ना। विशेष प्रकार के पाइप-वंकन में ‘झुर्रियां जानबूझकर उत्पन्न की जाती हैं ताकि वंक के भीतरी अर्धव्यस में अर्तरिक्त संपीडन प्रतिबलों को कम किया जा सके।

Wrought iron

पिटवाँ लोहा
देखिए– Iron

Wulfenite

वुल्फेनाइट
लोह मॉलिब्डेट PbMoO₄ की प्रकृति में पाई जाने वाली किस्म। यह मॉलिब्डेनम और सीसे का स्रोत है तथा अन्य सीस अयस्कों के साथ शिराओं में पाया जाता है। चतुष्फलकीय क्रिस्टल संरचना, कठोरता 3, आ0ध0 6-7।

X-alloy

एक्स-मिश्रातु
ऊष्मा उपचार्य ऐलुमिनियम मिश्रातु जिसमें 3.5 प्रतिशत Cu, 0.6 प्रतिशत Si, 1.25 प्रतिशत Fe, 0.6 प्रतिशत Mg और 0.6 Ni होता है। मजबूत होने के कारण इसका उपयोग सामान्य इंजीनियरी कार्यों और पिस्टनों के निर्माण में होता है।

Xantal

ऐक्सन्टल
एक ताम्र मिश्रातु जुसमें 81–90 प्रतिशत तांबा 0-1 प्रतिशत जस्ता, 0–4 प्रतिशत निकैल, 8–11 प्रतिशत ऐलुमिनियम और 0–4 प्रतिशत लोहा होता है। यह मजबूत और तन्य होता है तथा इसका उपयोग ढलवाँ और पिटवाँ रूप में होता है।

X-ray diffraction

ऐक्स–किरण विवर्तन
देखिए– Diffraction

X-ray flourescence analysis

ऐक्स-किरण प्रतिदीप्ति विश्लेषण
किसी प्रतिदर्श के परमाणुओं से एक्स-किरणों का उत्सर्जन। अभिलाक्षकणिक ऐक्स विकिरण के तरंग ईर्ध्य (अथवा ऊर्जा) द्वारा उपस्थित तत्व को पहचाना जाता है। इस विकिरण की तीव्रता, उपस्थित अवयव की सांद्रता का माप होती है। यह रासायनिक विश्लेषण की महत्वपूर्ण तकनीक हैं।

Y-alloy

Y- मिश्रातु
ऐलुमिनियम मूलक मिश्रातु जो छड़- चादर अथवा प ट्टी के रूप में उपलब्ध रहता है। यह ढलवाँ अथवा पिटवाँ घटकों के लिए उपयुक्त रहता है। इसमें 3.5–4.5 प्रतिशत तांबा, 1.2-1.7 प्रतिशत मैग्नीशियम, 1.8–2.3 प्रतिशत निकैल 0–0.6 प्रतिशत लोहा, 0.2–0.6 प्रतिशत सिलिकन और शेष ऐलुमिनियम, होता है। पट्टी-धातु में सीसा, वंग और जस्त नहीं होने चाहिए। कम ताप-प्रसार गुणांक होने के कारण इसका उपयोग पिस्टनौं और सिलिंडर शीर्षों को बनाने के लिए होता है।

Yellow brass

पीत पित्तल
65/35 किस्म के पीतल के लिए प्रयुक्त शब्द। अनीलित अवस्था में इसका तनन-सामर्थ्य लगभग 20 टन प्रति वर्ग इंच होती है जिसे कठोर-बेल्लन द्वारा 34 टन प्रति वर्ग इंच तक बढ़ाया जा सकता है। सामर्थ्य में वृद्धि से तन्यता में पर्याप्त कमी आ जाती है और दैर्ध्यवृद्धि 60 प्रतिशत से घटकर लगभग 5 प्रतिशत रह जाती है। इसमें, मशीननीयता को बढ़ाने के लिए 3 प्रतिशत सीसा मिला रहता है। उच्च सामर्थ्य संचकन के लिए लगभग 2 प्रतिशत लोहा, 1.5–5 प्रतिशत मैंगनीज, 0.5–1.5 प्रतिशत वंग विद्यमान रहता है और इस अवस्था में तांबे की मात्रा 56-62 प्रतिशत रहती है।

Yellow metal

पीत धातु
कभी-कभी 60-40 किस्म के पीतल के लिए प्रयुक्त नाम जिसमें 1–3 प्रतिशत सीसा होता है। इसे मुंट्ज धातु और आधातवर्ध्य पीतल भी कहते हैं।

Yield

1. लब्धि 2. पराभव
परिसज्जित उत्पाद के भार का अपरिसज्जित पदार्थ के भार के साथ अनुपात। फोर्जन में नेट भार को कुल भार से भाग देने से प्राप्त भागफल। बेल्लन के संदर्भ में बेल्लित उत्पाद के भार को पिंड भार से भाग देने पर प्राप्त भागफल।

Yield point

पराभव बिंदु
1. न्यूनतम प्रतिबल जिस पर किसी छड़, तार इत्यादि की बिना भार बढ़ाए, दैर्ध्यवृद्धि होती है। 2. अधिकतम प्रतिबल जिसे विशिष्ट भार के प्रभाव में कोई परीक्ष्य. वस्तु सुघट्य विरूपण के बिना सह सकती है।

Yield strength

पराभव सामर्थ्य
विशिष्ट बार के प्रभाव में रखे पदार्थ के सुघट्य विरूपण के लिए प्रतिरोध की माप जो लगभग प्रत्यास्थ सीमा के बराबर होता है। वह प्रतिबल जिस पर कोई पदार्थ विशिष्ट सीमक स्थायी विरूपण व्यक्त करता है।
देखिए– Proof stress

Young’s modulus

यंग मापांक
प्रत्यास्थता सीमाओं के अंदर, प्रतिबल का संगत विकृति के साथ अनुपात। यदि प्रतिबल (S) को टन प्रति वर्ग इंच में और विकृति (I) को लंबाई के इकाई मात्रक में हुई दैर्ध्यवृद्धि से व्यक्त किया जाए तो यंग-गुणांक (Y) को इस प्रकार व्यक्त किया जा सकता है:–
S
Y= ——
I

Zam metal

जैम धातु
यशद मूल मिश्रातु जिसमें ऐलुमिनियम और कुछ पारा होता है। इसका उपयोग यशद लेपी ऐनोड के रूप में किया जाता है।

Z-alloy

जेड-मिश्रातु
ऐलुमिनियम मिश्रातु जिसमें 6.5 प्रतिशत Ni और 0.5 प्रतिशत Ti होता है। यह गर्षणरोधी और अत्यंत कठोर होता है। इसका उपयोग औसतन भारी कमानियों के निर्माण में होता है।

Zebra roof

जेबरा छत
सिलिकामय ईटों और क्षारकीय ईंटों को बारी बारी से लगाकर भट्टी की छत बनाना। इस प्रकार की छत उन स्थलों में बनाई जाती है जो सबसे अधिक घिसते हैं। सिलिका अधिक मजबूत होती है किंतु क्षारकीय ईंटों की अपेक्षा शीघ्र घिसती है। इस प्रकार क्षारकीय ईंट आगे निकलकर सिलिकामय ईंटों को संरक्षण प्रदान करती हैं और सिलिकामय ईंटे, छत को सहारा देती है।

Languages

Dictionary Search

Loading Results

Quick Search

Follow Us :   
  भारतवाणी ऐप डाउनलोड करो
  Bharatavani Windows App