भारतीय भाषाओं द्वारा ज्ञान

Knowledge through Indian Languages

Dictionary

Definitional Dictionary of Petrology (English-Hindi)(CSTT)

Commission for Scientific and Technical Terminology (CSTT)

A B C D E F G H I J K L M N O P Q R S T U V W X Y Z

layer

परत :
शैल का एकल संस्तर या स्तर । सामान्यतः इसकी मोटाई की कोई सीमा निर्धारित नहीं की गई है, परन्तु अत्यन्त पतली परतों को स्तरिका कहा जाता है ।

lee (side)

प्रतिपवन (पार्श्वः) :
टिब्बे या पहाड़ी का वह ढालू पार्श्व जो वायु अथवा हिमनद बहाव से अपेक्षतया अप्रभावित रहता है । यह शब्द “stoss” का विपरीतार्थक है ।

lenticular

मसूराकार :
यह शब्द उस शैल-संहति के लिए प्रयुक्त होता है जो उभयोत्तल लेंस के समान, केन्द्र से सभी दिशाओं में पतला होता जाता है ।

lenticular bedding

मसूराकार संस्तरण :
वह संस्तरण जिसमें ऊर्मिका रूपी बालू की अलग-अलग व संयुक्त मसूराकार परतें पंक की सतत परतों से एकान्तरित होती हैं ।

leucitolith

ल्यूसिटोलिथ :
वह बहिर्वेधी शैल जो लगभग पूर्णतः ल्यूसाइट से निर्मित होता है ।

leucitophyre

ल्यूसिटोफायर :
एक पॉर्फिराइटी बहिर्वेधी शैल जो मुख्यतः ल्यूसाइट, नेफिलीन व क्लाइनोंपॉइरॉक्सीन से निर्मित होता है ।

leucocratic

अल्पवर्णी :
हल्के रंग के खनिजों से युक्त; विशेषतया उन आग्नेय शैलों के लिए प्रयुक्त एक शब्द जिसमें असितवर्णी खनिज 0 से लेकर 30 प्रतिशत तक ही होते हैं ।

leucophyre

ल्यूकोफायर :
(क) डायाबेस का एक प्रकार जो सायुराइटित फेल्सपार पीले, हरे तथा बैंगनी रंग के पाइरॉक्सीन, इल्मेनाइट एवं प्रचर मात्रा में क्लोराइट से युक्त होता है ।
(ख) सर्पेन्टीनीभूत पेरिडोटाइट का एक प्रकार जो अल्पवर्णी इन्स्टेटाइट तथा डायोप्साइड से युक्त होता है ।

limnocalcite

लिम्नोकैल्साइट :
अलवण जलीय उद्गम का मटियाला, अशुद्ध परतदार एवं सुसंहत (compact) चूना पत्थर जिसमें प्रायः वनस्पति और कवचों के अवशेष पाये जाते हैं ।

limonite

लिमोनाइट :
भूरे, अक्रिस्टलीय, प्राकृतिक रूप से मिलने वाले जलीय फेरिक ऑक्साइडों के वर्ग के लिए प्रयुक्त एक शब्द जिसमें कई प्रकार के लोह हाइड्रॉक्साइड होते हैं । यह लोहा या लोहे से युक्त साधारण द्वितीयक खनिजों के ऑक्सीकरण से दलदलों, झीलों, समुद्रों में अकार्बनिक एवं जैविक अवक्षेपण से निर्मित होता है ।

linear elongation

रेखीय दीर्धीकरण :
खनिजों या शैलों के विस्तार या दीर्घीकरण से फलित संरचना ।

linear flow structure

रेखिय प्रवाह संरचना :
आंशिक रूप से क्रिस्टलित मैग्मा या लावा के प्रभाव से निर्मित दीर्घित क्रिस्टलों का रेखीय अभिविन्यास ।

linear schistosity

रेखीय शिस्टाभता :
कायांतरण प्रक्रिया के दौरान प्रिज्मीय क्रिस्टलों के समान्तर अभिविन्यास से प्रतिफलित एक संरेखण संरचना ।

lineation

संरेखण :
शैलों में विद्यमान विभिन्न प्रकार की रैखिक संरचनाएं जिनमें धारियां, श्लक्षण, पार्श्व वलन अक्ष, प्रिज्यमीय खनिजों की रेखीय समानान्तरता तथा अन्य शैल घटक सम्मिलित हैं ।

linguoid ripple marks

जिह्वाभ ऊर्मिका चिंह्र :
जलीयधारा ऊर्मिका चिह्र जिसका आकार जिह्वा सदृश होता है । इसका नुकीला भाग (horn) जल-प्रवाह की दिशा को इंगित करता है ।

lithic tuff

शिली टफ़ :
ज्वालामुखी भस्म का संपिण्डित निक्षेप जिसमें सजातीय एवं/अथवा विजातीय खण्डाश्मों की विद्यमानता विशेष रूप से दिखाई पड़ती है ।

lithic wacke

लिथिक वैके, शिली वैके :
वह प्रक्रम जिसके सूक्ष्मकणिक शैल-खण्डों की मात्रा 40-50 प्रतिशत तक होती है ।

lithification

शिलीभवन :
वह प्रक्रम जिसके द्वारा कोई नया-नया निक्षेपित अवसाद एक कठोर शैल में परिवर्तित हो जाता है । यह क्रिया निक्षेपण के उपरान्त तुरंत ही हो सकती है, निक्षेपण के दौरान भी हो सकती है अथवा उसके बहुत बाद में भी घटित हो सकती है ।

lithogenesis

शैल जनन :
अवसादी शैलों के निर्माण एवं उनके संघटित होने की प्रक्रिया ।

lithology

आश्मिकी, अश्मविज्ञान :
प्रस्तरों या शैलों का अध्ययन जो सामान्यतः उनके प्रतिदर्शों (samples) के स्थूल परीक्षणों पर आधारित होता है ।

Languages

Dictionary Search

Loading Results

Quick Search

Follow Us :   
  भारतवाणी ऐप डाउनलोड करो
  Bharatavani Windows App