भारतीय भाषाओं द्वारा ज्ञान

Knowledge through Indian Languages

Dictionary

Definitional Dictionary of Petrology (English-Hindi)(CSTT)

Commission for Scientific and Technical Terminology (CSTT)

A B C D E F G H I J K L M N O P Q R S T U V W X Y Z

vitrophyric texture

विट्रोफ्रायरी गठन :
आग्नेय शैलों का एक गठन जिसकी विशेषता यह होती है कि इसमें थोड़े बहुत सुविकसित क्रिस्टल एक काचीय आधात्री (glassy groundmass) में स्थित होते हैं ।

volcanic

ज्वालामुखीय :
ज्वालामुखियों के लक्षणों से युक्त, उनसे संबंधित, उन पर स्थित, उनमें निर्मित या उनसे व्युत्पन्न ।

volcanic ash

ज्वालामुखीय राख :
ज्वालामुखी से निकले हुए धूलि प्रमाप के कण जिनका आयतन .06 मिoमीo व्यास वाले गोले से भी कम होता है ।

volcanic cinder

ज्वालामुखी सिंडर :
देखिए : ‘cinder’

volcanic cone

ज्वालामुखी शंकु :
ज्वालामुखी से निकले हुए पदार्थों द्वारा निर्मित एक शंकरूपी तथा प्रायः सममितिक पहाड़ी ।

volcanic eruption

ज्वालामुखी उद्गार :
ज्वालामुखी के मुख से भूपृष्ठ पर लावा, झांवा, धूलि आदि का विस्फोटी या शान्त उत्सर्जन ।

volcanic rock

ज्वालामुखी शैल :
ज्वालामुखी उद्गार से भूपृष्ठ पर आकर पिडित हुए आग्नेय शैलों का एक वर्ग ।

volcano

ज्वालामुखी :
पृथ्वी में एक विवर जिससे तप्त शैल तथा अन्य पदार्थ बाहर निकलते हैं । यदि बाहर निकलने वाले पदार्थ द्वार के चारों ओर संचित होने लगते हैं तो उससे एक शंकुवत् रचना बन जाती हैं जो धीरे धीरे एक बड़े पर्वत के आकार की हो जाती है और उस दशा में उस शंकु को भी ज्वालामुखी की संज्ञा दी जाती है ।

volcanology

ज्वालामुखी-विज्ञान :
ज्वालामुखियों और ज्वालामुखी क्रियाओं का वैज्ञानिक अध्ययन ।

vug

बग, आस्तरित गुहिका :
शैल में एक गुहिका जो आम तौर पर एक क्रिस्टलीय पपड़ी से आस्तरित होती है ।

wacke

वेके :
एक प्रकार का बलुआपत्थर जिसमें विभिन्न प्रकार के कोणीय एवं अप्रवरित अथवा अल्पतः प्रवरित खनिज अथवा शैल-खण्ड होते हैं । इसकी आधात्री 10 प्रतिशत से अधिक मृण्मय होती हैं ।

wall rock

भित्ति-शैल :
(क) वह शैल जिससे होकर कोई भ्रंश या खनिज-शिरा गुज़रती है ।
(ख) किसी भ्रंश, शिरा या अयस्क-निक्षेप से संलग्न स्थानीय शैल ।

wave ripple

तरंग ऊमिका :
जल अथवा वायु तरंगों के दोलन से निर्मित उर्मिका चिह्र ।

wavy bedding

लहरदार स्तरण, तरंगित स्तरण :
बालू और पंक के स्तरों का एकान्तरण जिसमें बालू की परतें ऊमिका के प्रभाव से बनती हैं और पंक की परतें बालू की लहरदार सतहों पर बनती हैं ।

xenoblast

जीनोब्लास्ट :
कायान्तरण के दौरान निर्मित उन खनिओं के लिए प्रयुक्त एक शब्द जिनमें अभिलक्षणिक क्रिस्टल-फलक विकसित नहीं हो पाते ।

xenoblastic texture

ज़ीनोब्लास्टिक गठन :
कायान्तरित शैलों में वह गठन जिसमें अधिकांश खनिज कण अनियमित आकार के होते है ।

xenocryst

अपरक्रिस्टल :
आग्नेय शैलों में पाए जाने वाले वे क्रिस्टल जो बाहर से आकर उनमें समाविष्ट हो गए ।

xenolith

अपराश्म :
आग्नेय शैलों में अन्तर्विष्ट वह शैल-खंड जो किसी प्राचीनतर शैलसमूह से व्युत्पन्न होकर उनमें प्रविष्ट हो जाता है किन्तु उसका ग्राही शैलों से जननिक रूप से कोई संबंध नहीं होता । उदाहरणार्थ : ग्रेनाइट में बलुआ पत्थर के खण्ड ।

xenomorphic

अस्वरूपी :
आग्नेय शैलों में पाए जाने वाले उन खनिजों के लिए प्रयुक्त एक शब्द जो अपने निजी क्रिस्टल फलकों से परिबद्ध नहीं होते वरन् उनका रूप संलग्न क्रिस्टलों से प्रभावित होता है ।

xenothermal deposits

बाहयतापीय निक्षेप :
उच्च तापमान पर किन्तु कम गहराई में निर्मित उष्मजलीय खनिजा निक्षेप ।

Languages

Dictionary Search

Loading Results

Quick Search

Follow Us :   
  भारतवाणी ऐप डाउनलोड करो
  Bharatavani Windows App