भारतीय भाषाओं द्वारा ज्ञान

Knowledge through Indian Languages

Dictionary

Definitional Dictionary of Petrology (English-Hindi)(CSTT)

Commission for Scientific and Technical Terminology (CSTT)

A B C D E F G H I J K L M N O P Q R S T U V W X Y Z

allothigenic

अन्यत्रजनिक :
और कहीं उत्पन्न । इस शब्द का प्रयोग उन शैल घटकों के लिए होता है जो अपने वर्तमान शैलों में निक्षेपित होने से पहले कहीं और निर्मित हुए थे ।

allothigenous

अन्यत्रजात :
‘allothigenic’ का समानार्थी ।

allothimorph

मूलरूपक :
कायांतरित शैल के वे घटक जिनका मूल आकार कायांतरण के दौरान परिवर्तित नहीं होता ।

allothrausmatic

अपरकेन्द्रकी :
उन सकेन्द्रशल्की (orbicular) शैलों के लिए प्रयुक्त एक विशेषण जिनकी गोलाभ संरचना अपराश्मों (xenoliths) से निर्मित होती है अर्थात् उनके केन्द्रक परिवर्ती शैलों के खण्ड होते हैं जिनका संघटन संयोजी आधात्रिका से भिन्न होता है ।

allotriomorphic

अस्वरूपी :
आग्नेय शैलों के उन खनिजों के लिए प्रयुक्त एक विशेषण जो अपने अभिलक्षणिक क्रिस्टल फलकों से परिबद्ध नहीं होते ।

allotriomorphic granular texture

अस्वरूपी कणिकामय गठन :
आग्नेय शैलों का एक ऐसा जिसमें क्रिस्टलीय फलक नहीं दिखाई पड़ते ।

alluvial

जलोढ :
(क) प्रवाही जल द्वारा बहाये या निक्षेपित किए गए पदार्थों के लिए प्रयुक्त एक शब्द ।
(ख) जलोढक (alluvium) के संबंधित अथवा उससे निर्मित ।
(ग) जलोढक में पाया जाने वाला ।

alluvial cone

जलोढ शंकु :
किसी महाखड्ड या कैनियन के मुख पर नदियों द्वारा प्रवाहित अपरदी पदार्थों से निर्मित एक शंकुरूपी निक्षेप जिसके पार्श्व बहुत कम प्रवणित होते हैं और उनका झुकाव सभी दिशाओं में लगभग बराबर होता है ।

alluvial deposit

जलोढ निक्षेप :
प्रवाही जल द्वारा निक्षेपित असंपिडित शैल पदार्थों का संचय ।

alluvial fan

जलोढ पंखा :
असंपिंडित शैल-पदार्थों की एक ढलुआ तथा पंखाकार संहति जो किसी नदी द्वारा उस स्थल पर निक्षेपित होती है जहाँ वह उच्च भूमि से बहती हुई किसी चौड़ी घाटी या मैदान में प्रवेश करती है ।

alluvium

जलोढक :
नदियों के भूवैज्ञानिक कार्यों के फलस्वरूप उत्पन्न सभी अपरदी निक्षेप जिनके अन्तर्गत नदी-तलों, बाढ़कृत मैदानों, झीलों, पर्वत ढालों के पादस्थ पंखों तथा ज्वार नदमुखों में निक्षेपित विभिन्न प्रकार के असंपिंडित अवसाद सम्मिलित हैं ।

almandine-amphibolite facies

अलमन्डाइन एम्फिबोलाइट संलक्षणी :
कायांतरण की एक संलक्षणी जो आंशिक रूप से एस्कोला के मूल एम्फिबोलाइट संलक्षणी के समतुल्य होती है । यह संलक्षणी क्षेत्रीय कायान्तरण की विशेषता है । इस संलक्षणी के अल्पसिलिक शैलों के विशेष खनिज समूह अलमन्डाइन-गार्नेट, हॉर्नब्लैन्ड व कम से कम 15 प्रतिशत An प्लेजिओक्लेस हैं । यह एम्फिबोलाइट संलक्षणी के उच्च दाब समूह को निम्न दाब समूह से पृथक् करने के लिए बनाई गई थी ।

alnoite

एलनोइट :
एक प्रकार का अनुप्रस्थ (transverse) अंतर्वेधी शैल । यह एक मध्यम कणिक गहरे रंग का आग्नेय शैल है जिसमें बायोटाइट, ओलिवीन व औगाइट के लक्ष्य क्रिस्टलों (phenocrysts) के किनारे कटे-फटे होते हैं ।

alteration

परिवर्तन :
शैलों या खनिजों में उनके निर्माण के उपरान्त किसी भौतिक या रासायनिक बदलावों का प्रक्रम ।

amagmatic

अमैग्मी :
मैग्मीय सक्रियता से असंबंधिक या उसमें असम्मिलित ।

amorphous

रवाहीन, अक्रिस्टलीय :
रूपविहीन; उन शैलों, खनिजों और पदार्थों के लिए प्रयुक्त एक शब्द जिनमें कोई निश्चित क्रिस्टलीय संरचना नहीं होती है ।

amphibolite

ऐम्फिबोलाइट :
एक क्रिस्टलोब्लास्टिक कायांतरित शैल जो अनिवार्यतः एम्फिबोल एवं प्लेजिओवलेज से संघटित होता है ।

amphibolite facies

एम्फिबोलाइट संलक्षणी :
कायांतरित शैलों की एक संलक्षणी जिसमें शैल रचना मध्यम रूप से उच्च दाब व ताप द्वारा नियंत्रित होती है । इसके अभिलक्षणिक खनिज समुच्चय (sets) हॉर्नब्लेण्ड तथा प्लेजिओक्लेस (ऑलिगोक्लेस या अधिक कैल्सियमी प्रकार के) होते हैं । इसकी उपरी सीमा हॉर्नब्लेण्ड के स्थान पर डाइऑप्साइड तथा हाइपरस्थीन की उपस्थिति से निर्धारित होती है और प्लेजिओक्लेस का युगल एल्बाइट-एपिडोट में विखंडन इस संलक्षणी की निम्न सीमा निर्धारित करती है ।

amphimorphic

उभयरूपी :
भूविज्ञान में दो प्रक्रमों के मेल से निर्मित खनिज निक्षेपों के लिए प्रयुक्त एक शब्द (जैसे अवसादी मृण्मय निक्षेपों के ऊपर खनिजधारी गरम झरनों की अभिक्रिया से निर्मित निक्षेप) ।

amygdaloid

वातामकी (शैल) :
वे ज्वालामुखीय शैल जो कैल्सेडोनी, स्फटिक, केल्साइट या जिओलाइट के निक्षेपों से पूरित अनेक गैस गुहिकाओं से युक्त होते हैं ।

Languages

Dictionary Search

Loading Results

Quick Search

Follow Us :   
  भारतवाणी ऐप डाउनलोड करो
  Bharatavani Windows App