भारतीय भाषाओं द्वारा ज्ञान

Knowledge through Indian Languages

Dictionary

Definitional Dictionary of Philosophy (English-Hindi) (CSTT)

Commission for Scientific and Technical Terminology (CSTT)

A B C D E F G H I J K L M N O P Q R S T U V W X Y Z

Please click here to view the introductory pages of the dictionary
शब्दकोश के परिचयात्मक पृष्ठों को देखने के लिए कृपया यहाँ क्लिक करें।

Phenomenon

घटना-संवृति
सामान्यतः कोई भी दृश्य वस्तु, तथ्य या घटना जिसका वर्णन या व्याख्या विज्ञान के लिए महत्त्वपूर्ण हो। विशेषतः कांट में, वस्तु का वह रूप जो हमें प्रतीत होता है और आत्मा की विभिन्न शक्तियों से प्रभावित होता है। इसके विपरीत, वस्तु का निजरूप (noumenon) हमारे लिए सदैव अज्ञेय बना रहता है।

Philosophical Analysis

दार्शनिक विश्लेषण
दर्शन का एक समकालीन संप्रदाय जिसके अनुसार दर्शन का एक मुख्य या एकमात्र कार्य विज्ञान के तथा सामान्य-बुद्धिमूलक संप्रत्ययों का तार्किक विश्लेषण करना है। जी.ई. मूर (Moore), बट्रेंड रसल (Russell), विटगेन्स्टाइन (Wittgenstein), ए. जे. एअर (Ayer) इत्यादि कुछ प्रमुख दार्शनिक हैं जिन्होंने विचारों में बहुत वैषम्य होने के बावजूद विश्लेषण को दार्शनिक प्रणाली के रूप में अपनाया है।

Philosophical Behaviourism

दार्शनिक व्यवहारवाद
मनोवैज्ञानिक तथ्यों को मानव-व्यवहार की कोटियों में अनूदित करने का प्रयास करता है। इसके विपरीत दार्शनिक व्यवहारवाद दार्शनिक संप्रत्ययों एवं दार्शनिक युक्तियों की प्रामाणिकता उनके द्वारा उत्पन्न व्यावहारिक उपयोगिता पर आधारित करता है। जिस से प्रत्यय अथवा युक्ति में जितनी अधिक व्यावहारिक उपयोगिता होगी वह उतना ही अधिक वैध अथवा प्रामाणिक समझा जायेगा। ‘चार्ल्स पर्स’, ‘विलियम जेम्स’, ‘जान ड्यूई’ एवं ‘एफ. सी.एस. शिलर इस संप्रदाय के प्रतिनिधि दार्शनिक हैं।

Philosophical Intuitionism

दार्शनिक अंतःप्रज्ञावाद
नीतिशास्त्र में अंतःप्रज्ञावाद का एक प्रकार जिसके अनुसार हमें किसी कर्म के सत्-असत् अथवा शुभ-अशुभ का अंतःप्रज्ञा द्वारा तात्कालिक ज्ञान प्राप्त होता है। उक्त ज्ञान का संबंध कुछ ऐसे सार्वभौम नैतिक नियमों से होता है, जिनके भीतर शाश्वत प्रामाणिकता पाई जाती है।

Philosophical Method

दार्शनिक विधि
दार्शनिक समस्याओं के समाधन के लिये स्वीकृत विधि। जैसे : सुकरात की धात्री विधि, संवाद विधि (प्लेटो), संदेह विधि (देकार्त) तार्किक विधि (रसल) इत्यादि।

Philosophical Psychology

दार्शनिक मनोविज्ञान
‘मन्’, ‘चेतना’, ‘आत्मा’ इत्यादि से संबंधित तात्त्विक प्रश्नों का विवेचन करने वाला शास्त्र। उदाहरण के लिए आत्मा या मन का तात्त्विक स्वरूप क्या है? मन् और शरीर के बीच क्या संबंध है? क्या आत्मा के भीतर ‘संकल्प-स्वातंत्रय’ विद्यमान है अथवा आत्मा कर्म करने में बिल्कुल परंतत्र है।

Philosophy

दर्शनशास्त्र
व्युत्पत्ति के अनुसार ‘फिलॉसफी’ शब्द दो शब्दों का योग है। फिल (phil) सोफिया (sophia)। ‘सोफिया’ का अर्थ है विद्या अथवा ज्ञान जबकि ‘फाइलो’ का अर्थ है अनुराग अथवा प्रेम। इस दृष्टि से ‘फिलॉसफी’ का अर्थ हुआ- ‘ज्ञान के प्रति अनुराग’। साधारण और वैज्ञानिक संप्रत्ययों का विश्लेषण और संपरीक्षण करनेवाला तथा विशेष विज्ञानों की पूर्व-मान्यताओं की जाँच करके उनके परिणामों का समन्वय करनेवाला और विज्ञानों के क्षेत्रोें में न आनेवाले जगत्, समाज और व्यक्ति से संबंधित गहन प्रश्नों का विवेचन करनेवाला शास्त्र, जिसके अंदर तत्त्वमीमांसा, ज्ञानमीमांसा, नीतिशास्त्र, सत्ताशास्त्र, तर्कशास्त्र, मूल्यमीमांसा, भाषा-दर्शन इत्यादि का समावेश होता है।

Philosophy Of Beauty

सौंदर्य मीमांसा
सौंदर्य एवं सौंदर्य शास्त्रीय प्रत्ययों का दार्शनिक विवेचन, यथा : सौंदर्य का स्वरूप, उसके मापदंड, सौन्दर्यपरक मूल्य, रस-निष्पादन के सिद्धांत आदि। संगीत, नाटक, साहित्य एवं शिल्प-विद्या, ललित कलाएँ आदि भी इसके अंतर्गत हैं।

Philosophy Of Education

शिक्षा-दर्शन
शिक्षा का स्वरूप, उसका उद्देश्य, समाज से उसका संबंध इत्यादि तात्त्विक प्रश्नों का विवेचन करनेवाला शास्त्र।

Philosophy Of History

इतिहास-दर्शन
इतिहासकार के कार्य का तर्कशास्त्र और ज्ञानमीमांसा की दृष्टि से विवेचन करनेवाला शास्त्र।

Philosophy Of Language

भाषा-दर्शन
दर्शनशास्त्र की वह विधा जिसमें सामान्य भाषा, उसकी वाक्य-संरचना, शब्दार्थ, शब्द प्रयोग आदि की विवेचना की जाती है। समकालीन पाश्चात्य दर्शन में गिल्बर्ट राइल, विटगेन्स्टाइन, आस्टिन आदि इसके प्रवर्तक हैं। भारतीय दर्शन में उक्त विधा भर्तृहरि के चिंतन में द्रष्टव्य है।

Philosophy Of Law

विधि-दर्शन
विधि विषयक अवधारणाओं, समस्याओं, सिद्धांतों आदि का गहन चिंतन। जैसे : संकल्प-स्वातंत्रय, मूल-अधिकार, मूलकर्तव्य, दंड की अवधारणा एवं उसके सिद्धांत, मृत्यु-दंड का औचित्य, आत्महत्या एवमं ‘दया-मृत्यु'(mercy-killing) इत्यादि।

Philosophy Of Religion

धर्म-दर्शन
धर्म का दार्शनिक दृष्टि से अध्ययन करने वाला शास्त्र, जो धर्म की प्रकृति, उसका कार्य और मूल्य, धार्मिक ज्ञान का प्रामाण्य इत्यादि प्रश्नों का किसी धर्म-विशेष के प्रति पक्षपात न रखते हुए सामान्य रूप से विवेचन करता है।

Philosophy Of Science

विज्ञान-दर्शन
वैज्ञानिक अध्ययन के क्षेत्र में आने वाली तार्किक, ज्ञानमीमांसीय और तत्त्वमीमांसीय समस्याओं का अध्ययन करने वाला शास्त्र। इसमें वैज्ञानिक प्रणाली में प्रयुक्त ‘पूर्व-मान्यताओं’, ‘प्राक्कल्पना’, ‘प्रयोग’ इत्यादि पदों को परिभाषित किया जाता है और ‘बल’, ‘दिक्’, ‘काल’, ‘ऊर्जा’, ‘द्रव्यमान’ इत्यादि संप्रत्ययों का विश्लेषण किया जाता है। विज्ञानों के अभ्युपगमों की जाँच करना भी इसके क्षेत्र में आता है।

Physical Division

भौतिक विभाजन
किसी भौतिक पदार्थ को विभाजित करना, जैसे पेड़ का उसकी शाखाओं, पत्तों आदि में विभाजन। इसका तार्किक विभाजन से भेद हृदयंगम कर लेना आवश्यक होता है।

Physical Evil

भौतिक अशुभ
पैंट्रिक के अनुसार सामान्यतया तीन प्रकार के ‘अशुभ’ स्वीकार किए गए हैं। भौतिक अशुभ, प्राकृतिक अशुभ एवं नैतिक अशुभ। भौतिक अशुभ के अन्तर्गत सभी प्रकार के शारीरिक अशुभ यथा रोग, वृद्धावस्था, आघात, पीड़ा एवं कुरूपता इत्यादि प्रत्यय सम्मिलित किए जा सकते हैं।

Physicalism

कायावाद, भौतिकवाद
वियना सर्कल (Vienna Circle) के इंद्रियानुभववादियों का वह मत कि सभी भाषाओं और विज्ञानों में प्रयुक्त प्रत्येक सार्थक वाक्य का भौतिकी की भाषा में अनुवाद किया जा सकता है, अर्थात् प्रेक्षण-योग्य वस्तुओं और उनके गुणधर्मों को व्यक्त करने वाली भाषा आदर्श भाषा है।

Physical Realism

कायिक यथार्थवाद, भौतिकी यथार्थवाद
वह मत कि भौतिकी में प्रयुक्त इकाइयों, जैसे : इलेक्ट्रॉन, परमाणु आदि का वस्तुतः स्वतंत्र अस्तित्व है।

Physical Sanction

भौतिक अंकुश
बेन्थम के अनुसार, प्रकृति का सामान्य व्यापार और उसके नियम जो उनके विपरीत आचरण करने वाले को बीमारी इत्यादि उत्पन्न करके कष्ट देते हैं और इस प्रकार एक सीमा तक उसे नैतिक आचरण के लिए बाध्य करते हैं।

Physico-Theological Argument

भौतिक-ईश्वरमीमांसीय यपक्ति
सृष्टि में निहित उद्देश्य अथवा प्रयोजन के आधार पर एक ‘चेतन सत्ता’ के रूप में ईश्वर के अस्तित्व को सिद्ध करता है। प्रयोजनमूलक युक्ति को कांट द्वारा दिया गया नाम।

Languages

Dictionary Search

Loading Results

Quick Search

Follow Us :   
  भारतवाणी ऐप डाउनलोड करो
  Bharatavani Windows App