भारतीय भाषाओं द्वारा ज्ञान

Knowledge through Indian Languages

Dictionary

Definitional Dictionary of Philosophy (English-Hindi) (CSTT)

Commission for Scientific and Technical Terminology (CSTT)

A B C D E F G H I J K L M N O P Q R S T U V W X Y Z

Please click here to view the introductory pages of the dictionary
शब्दकोश के परिचयात्मक पृष्ठों को देखने के लिए कृपया यहाँ क्लिक करें।

< previous12345678910Next >

Iconic Sign

चित्र-संकेत
सी. एस. पर्स के अनुसार, वह संकेत जो किसी वस्तु का बोध अपनी कुछ उन विशेषताओं के कारण कराता है, जो उस वस्तु में भी होती है, जैसेः एक प्ररूप, मॉडल या चित्र।

Idea

विचार, प्रत्यय
दृश्य या अदृश्य, स्थूल या सूक्ष्म, सामान्य या विशेष, किसी भी वस्तु का मानसिक प्रतिरूप या प्रतिनिधि। दर्शन के इतिहास में अलग-अलग अर्थों में प्रयुक्त शब्द –
1. प्लेटो और सुकरात : कालातीत सत्व या सामान्य, दिक्-काल में अस्तित्व रखने वाली वस्तुओं का आद्य प्ररूप।
2. स्टोइक : मनुष्य के मन में वर्तमान वर्ग-संप्रत्ययों में से एक।
3. नव्य प्लेटोवाद : परम मनस द्वारा संकल्पित। विचारित वस्तुओं के आद्य प्ररूप।
4. देकार्त और लॉक : मानवीय मन में स्थित संकल्पनाओं में से एक।
5. बर्कले : इन्द्रिय संवेदन के विषय या प्रत्यक्ष जो या तो मानवीय आत्मा के पर्याय या मनआश्रित सत्ता के प्रकार होते हैं।
6. ह्यूम : संवेदन की हल्की-सी नकल जिसका स्मृति में उपयोग होता है।
7. कांट : वे सहजात अवधारणाएँ जो पदार्थ की कोटियों तथा ज्ञान की सीमा के बाहर हैं।

Ideal

आदर्श
वह वांछित अभीष्ट जिसे मनुष्य प्राप्त करना चाहता है। विविध क्षेत्रों में उपर्युक्त प्रकार से विभिन्न लक्ष्य (आदर्श) होते हैं। जैसे : सौन्दर्य, पूर्णता, नैतिक या भौतिक उत्कर्ष इत्यादि।

Idealism

प्रत्ययवाद, विज्ञानवाद
ज्ञानमीमांसा में वह मत कि प्रत्यक्ष बोध केवल प्रत्ययों का ही होता है न कि बाह्य वस्तुओं का। तत्त्वमीमांसा में, वह मत कि “मनस्” या आत्मा का ही वास्तविक अस्तित्व है, परम सत्ता चिद्रूप है न कि भौतिक।

Idealistic Monism

प्रत्ययवादी एकतत्त्ववाद
वह मत कि परम तत्त्व एक एवम् चिद्रूप प्रत्यय रूप है।

Idealistic Vitalism

प्रत्ययवादी प्राणतत्त्ववाद
जीव वैज्ञानिक से दार्शनिक बने जर्मन विचारक ड्रीश के अनुसार, जीवन प्रक्रिया पर एक अति जैविक अति वैयक्तिक अन्तस्तत्त्व का वर्चस्व रहता है, उसके प्रकाश में ही जीवन की व्याख्या की जा सकती है। देखे “entelechy”।

Idealization

आदर्शीकरण
कला में, पूर्ण या आदर्श पुरूष को प्रस्तुत करने के लिए व्यष्टियों के गुणों के संबंध में अपाकर्षण और सामान्यीकरण का प्रयोग।

Ideal Observer Theory

आदर्श प्रेक्षक-सिद्धांत
नैतिक वस्तुपरकनावाद का एक रूप, जिसके अनुसार नैतिक निर्णय, कर्मों के विषय में उन भावनाओं को व्यक्त करते हैं, जिनका यदि कोई आदर्श प्रेषक होता तो उसे अनुभव होता।

Ideal Of Reason

तर्कबुद्धि-आदर्श
कांट के अनुसार एक ऐसी सर्व-समावेशी सत्ता (ईश्वर) का प्रत्यय, जो सभी परिच्छिन्न वस्तुओं का अंतिम कारण है। वह एक आदर्श मात्र है न कि कोई तर्कसिद्ध वस्तु।

Ideal Utilitarianism

आदर्श उपयोगितावाद
उपयोगितावाद का एक रूप, जो सुख के अतिरिक्त अन्य वस्तुओं को भी शुभ मानता है। इंग्लेण्ड में मूर, रैशडल और लेयर्ड इस मत के प्रमुख समर्थक हुए।

Ideas Of Pure Reason

शुद्ध तर्कबुद्धि प्रत्यय
कांट के दर्शन में, आत्मा, ईश्वर और विश्व से संबंधित प्रत्यय, जो शुद्ध तर्कबुद्धि के लिए नियामक हैं पर जिन्हें व्यावहारिक तर्कबुद्धि वास्तविक मानकर चलती है।

Ideatum

प्रत्यय-प्रदत्त
प्रत्यय की विषय वस्तु अथवा वह जिसका प्रतिनिधित्व मन में प्रत्यय करता है। इसका निर्देश वस्तुतः अस्तित्त्ववान वस्तु से भी है, जो चेतना में प्रत्ययों के अनुरूप होती है।

Identity-In-Difference

भेद में अभेद
सत्ता-शास्त्र की वह अवधारणा जिसके अनुसार नानात्व में अभेद या एकतत्व मान्य है।

Identity Philosophy

तादात्म्य-दर्शन, अभेद दर्शन
1. सामान्यतः वह सिद्धांत जो तात्त्विक दृष्टि से चित् और अचित् में भेद नहीं मानता।
2. ज्ञानमीमांसीय दृष्टि से ज्ञाता और ज्ञेय में अंतर नहीं स्वीकार करता है। विशेषतः शेलिंग के दर्शन के लिए प्रयुक्त, जो प्रकृति और आत्मा को एक मानता है।

Ideogenetic Theory

प्रत्ययजनन-सिद्धांत
ब्रेन्टानो (Brentano) एवं अन्य संवृतिवादियों का एक सिद्धांत जिसके अनुसार निर्णय चेतना की एक ऐसी क्रिया है जो प्रत्ययों को उत्पन्न करती है।

Ideographic Language

भावलेखात्मक भाषा
लाईब्नित्ज़ (Leibnitz) के अनुसार, ऐसी भाषा जिसमें प्रत्येक सरल संकेत एक सरल प्रत्यय का बोधक हो और संयुक्त संकेत एक संयुक्त प्रत्यय का : इसकी योजना ज्ञान को सबके लिए सुगम बनाने के उद्देश्य से बनाई गई थी।

Ideology

1. प्रत्ययविज्ञान – फ्रेंच दार्शनिक देस्त्यूत द त्रसी (destutt de tracy : 1754-1836) द्वारा प्रत्ययों का विश्लेषण करने और संवेदनों से उनकी उत्पत्ति दिखाने वाले विज्ञान के लिए सर्वप्रथ्म प्रयुक्त शब्द।
2. सिद्धांतवाद – कुछ अर्थनियतत्ववादियों द्वारा प्रभावोत्पादक व्यवहार के विपरीत प्रभावहीन या कोरे विचारों या सिद्धांतों के अर्थ में प्रयुक्त।
3. वैचारिकी, विचारधारा – जीवन की सामान्य समस्याओं के विषय में व्यवस्थाबद्ध चिंतन।

Idiopathic Unipathy

स्वैकानुभूति
भावात्मक स्तर पर इतर का अहम् में विलय हो जाना और इस प्रकार दोनों का अभेद हो जाना।

Idio-Psychological Ethics

अंतर्विवेकात्मक नितिशास्त्र
जेम्स मार्टिन्यू (1805-1899) के अनुसार, वह नीतिशास्त्र या नैतिक सिद्धि जो अंतर्विवेक पर आधारित हो।

Idiotology

व्यष्टि विज्ञान
मैकेंजी (Mackenzie) के अनुसार, मानवविज्ञान की वह शाखा जिसका विषय समाज न होकर व्यष्टि व्यक्ति हो।
< previous12345678910Next >

Languages

Dictionary Search

Loading Results

Quick Search

Follow Us :   
  भारतवाणी ऐप डाउनलोड करो
  Bharatavani Windows App