भारतीय भाषाओं द्वारा ज्ञान

Knowledge through Indian Languages

Dictionary

Rajaneetivijnan Paribhasha Kosh (English-Hindi) (CSTT)

Commission for Scientific and Technical Terminology (CSTT)

A B C D E F G H I J K L M N O P Q R S T U V W X Y Z

शब्दकोश के परिचयात्मक पृष्ठों को देखने के लिए कृपया यहाँ क्लिक करें
Please click here to view the introductory pages of the dictionary

Secret diplomacy

गुप्त राजनय विभिन्न राज्यों द्वारा पारस्परिक स्वार्थों की पूर्ति के लिए गोपनीय अथवा प्रच्छन्न रूप से अंतर्राष्ट्रीय वार्ताओं अथवा संधिवार्ताओं का संचालन करने की कला अथवा पद्धति इस गुप्त कला अथवा पद्धति के अंतर्गत संबद्ध राज्यों द्वारा विभिन्न प्रकार की छलपूर्ण अथवा कपटपूर्ण प्रक्रियाओं, युक्तियों एवं कार्यपद्धतियों का प्रयोग भी किया जाता है। प्रथम महायुद्ध के दौरान अमेरिकी राष्ट्रपति वुडरो विल्सन के चौदह सूत्रों में एक यह भी था कि भविष्य में किसी प्रकार के गुप्त समझौते नहीं किए जाएँगे। अतः राष्ट्रसंघ और संयुक्त राष्ट्र संघ दोनों के विधानों में यह प्रावधान किया गया कि अंतर्राष्ट्रीय संधियों और समझौतों का संघ के सचिवालय में पंजीकरण कराना होगा।

Secret emissary

गुप्त प्रणिधि, गुप्त दूत किसी एक राज्य द्वारा किसी अन्य राज्य में गुप्त अथवा अज्ञात रूप से भेजा गया दूत।

Sectionalism

वर्गवाद वह प्रवृत्ति जिसके अंतर्गत राषट्रीय हित की परवाह न करते हुए समाज के किसी वर्ग अथवा खंड विशेष की स्वार्थपूर्ति के लिए अनेक प्रकार की युक्तियाँ अपनाई जाएँ।

Secularism

पंथ निरपेक्षता आधुनिक अवधारणा के रूप में पंथ निरपेक्षता का प्रादुर्भाव पश्चिमी राजदर्शन में हुआ। इसके अनुसार धर्म का राजनीति से कोई सरोकार नहीं होना चाहिए और राज व्यवस्था में इस विचार का महत्व नहीं होना चाहिए कि किसी व्यक्ति का धर्म क्या है। मानवीय मामलों में नियामक तत्व विवेक जनित ज्ञान होना चाहिए, न कि धार्मिक विश्वास। अनेक आधुनिक लोकतांत्रिक देशों में इस आदर्श को अपनाया गया है। परंतु विभिन्न देशों में इसके विभिन्न रूप पाए जाते हैं। अतः यह पद एक विवादास्पद पद बन गया है। उन्नीसवीं शताब्दी ने पंथ निरपेक्षता में सब प्रकार की संकीर्णताओं के विरुद्ध सर्वदेशीय अथवा विश्वव्यापी भ्रातृत्व भावना को प्रोत्साहन दिया। भारत में अनेक लोग पंथनिरपेक्षता को “सर्व धर्म समभाव” के अर्थ में प्रयोग करते हैं जिससे अभिप्राय है कि राज्य का प्रत्येक धर्मावलंबी पंथ के प्रति समान भाव होना चाहिए और उसके द्वारा इन पंथों में किसी प्रकार का भेदभाव नहीं किया जाना चाहिए। इस विचारधारा के अनुसार राज्य का धर्म के मामलों में तटस्थ होना आवश्यक नहीं।

Security pact

सुरक्षा अनुबंध दो या अधिक राज्यों के बीच ऐसी अंतर्राष्ट्रीय संधि (या समझौता) जो उन राज्यों पर किसी शत्रु राज्य द्वारा सशस्त्र आक्रमण किए जाने की स्थिति में, उन राज्यों को एक-दूसरे को सैनिक एवं अन्य प्रकार की सहायता प्रदान करने के लिए वचनबद्ध करती है।

Sedition

राजद्रोह विधिवत स्थापित सत्ता के विरुद्ध इस प्रकार के लेखन, भाषण एवं अन्य कार्य जिनका उद्देश्य अवैध उपायों से उस सत्ता को विस्थापित करना हो अथवा उसके विरुद्ध विद्रोह, विप्लव, अशांति अथवा असंतोष उत्पन्न करना हो।

See saw policy

डाँवाडोल नीति किसी राज्य अथवा उसकी सरकार की ऐसी नीति जिसमें स्थिरता, सुदृढ़ता, संकल्प एवं निरंतरता का अभाव हो।

Select committee

प्रवर समिति किसी विशेष विषय अथवा विधेयक पर विस्तारपूर्वक विचार करने के लिए नियुक्त की गई संसदीय समिति। भारत की लोक सभा में इसका गठन स्पीकर द्वारा किया जाता है और इसमें सदन के सभी प्रमुख राजनीतिक दलों का प्रतिनिधित्व होता है। कभी-कभी दोनों सदनों की संयुक्त प्रवर समिति का गठन भी किया जाता है।

Self government

स्वशासन नागरिकों द्वारा निर्वाचित संस्थाओं के माध्यम से शासन संचालन।

Separatist movement

पृथकतावादी आंदोलन, अलगाववादी आंदोलन ऐसा आंदोलन या कार्यक्रम जिसका लक्ष्य मूल संगठन अथवा राज्य अथवा इकाई से अलग होकर एक स्वतंत्र सत्ता अथवा संगठन स्थापित करना हो।

Sessional committee

सत्रीय समिति ऐसी समिति जिसका अस्तित्व सदन के किसी सत्र विशेष तक ही सीमित रहता है। सदन के सत्र की समाप्ति के साथ ही उसका भी अंत हो जाता है।

Sine die

अनिश्चित काल तक अनियत काल के लिए अथवा बिना कोई अगली तिथि निर्धारित किए हुए (जैसे, संसद का अनिश्चित काल तक स्थगन)।

Single member constituency

एक सदस्यीय निर्वाचन-क्षेत्र वह निर्वाचन-क्षेत्र जहाँ से विधान मंडल के लिए केवल एक प्रतिनिधि निर्वाचित किया जाता है। यदि उत्तर प्रदेश की विधान सभा की सदस्य संख्या 430 है तो उत्तर प्रदेश को 430 एक सदस्यीय निर्वाचन-क्षेत्रों में बाँट दिया जाएगा और प्रत्येक क्षेत्र से एक-एक प्रतिनिधि निर्वाचित किया जाएगा। एक सदस्यीय निर्वाचन-क्षेत्र में जिस प्रत्याशी को निर्वाचन में सबसे अधिक मत मिलते है, वह निर्वाचित घोषित कर दिया जाता है।

Single transferable vote system (= Hare system)

एकल हस्तांतरणीय मतदान पद्धति वह प्रणाली जिसके अनुसार बहु सदस्यीय निर्वाचन क्षेत्रों में प्रतिनिधियों का निर्वाचन आनुपातिक प्रणाली से होता है। एक निर्वाचन-क्षेत्र के सभी प्रत्याशियों के नाम एक मतपत्र पर लिखे होते हैं। प्रत्येक मतदाता के पास प्रत्याशियों की संख्या के बराबर ही मत होते हैं। वह अपने मत एक, दो या अधिक प्रत्याशियों को डाल सकता है परन्तु यह आवश्यक है कि वह प्रत्याशियों के नामों के आगे 1, 2, 3, 4 लिखकर अपनी वरीयता प्रकट करे। वह जिस प्रत्याशी के नाम के आगे “1” लिखता है, उसे उसकी पहली पसंद का मत मिलता है। जिस प्रत्याशी के नाम के आगे वह “2” लिखता है उसे उसकी दूसरी पसंद का मत मिलता है और इसी प्रकार क्रम चलता रहता है। यदि कोई प्रत्याशी मतों का एक निश्चित कोटा प्राप्त कर लेता है तो वह निर्वाचित मान लिया जाता है। इस कोटे के निर्धारण का सूत्र यह है कि वैध मत डालने वाले मतदाताओं की कुल संख्या को निर्वाचित होने वाले प्रतिनिधियों की संख्या में 1 जोड़कर भाग दे दिया जाए। परन्तु यदि किसी प्रत्याशी को निर्धारित कोटे के बराबर मत नहीं मिलते तो मतदाताओं की दूसरी वरीयता से मतों को पहली वरीयता के मतों से जोड़ा जाता है ताकि कोई एक उम्मीदवार निर्धारित कोटा प्राप्त कर सके।

Snap vote

आकस्मिक मतदान विधान मंडल अथवा किसी अन्य निकाय में किसी महत्वपूर्ण प्रस्ताव या विधेयक पर सदस्यों द्वारा एकाएक मतदान करके लिया गया निर्णय।

Social contract

सामाजिक संविदा राज्य की उत्पत्ति के संबंध में एक सिद्धांत यह है कि राज्य की उत्पत्ति प्राकृतिक अवस्था में रहनेवाले मनुष्यों के आपसी समझौते के द्वारा हुई है। अतः सामाजिक संविदा की अवधारणा इस सामाजिक समझौते के सिद्धांत का अभिन्न भाग है। सामाजिक समझौते के पक्षकारों और उसकी शर्तों के संबंध में इस सिद्धांत के समर्थकों में मूलभूत मतभेद पाए जाते हैं।

Social equality

सामाजिक समता सामाजिक व्यवस्था में वर्ग, जाति, धर्म, लिंग, निवास, व्यवसाय या इनमें से किसी के आधार पर नागरिकों के बीच किसी प्रकार का भेदभाव न किया जाना और उन्हें कानूनों का समान रूप से संरक्षण प्रदान किया जाना।

Socialism

समाजवाद समाजवाद का मूल सिद्धांत यह है कि उत्पादन के साधनों एवं वितरण और विनिमय की व्यवस्था पर वैयक्तिक स्वामित्व न होकर सार्वजनिक स्वामित्व होना चाहिए ताकि संपत्ति के माध्यम से मनुष्य मनुष्य का शोषण न कर सके। समाजवाद का आदर्श इस वाक्य से प्रकट होता है कि प्रत्येक से उसकी क्षमतानुसार काम लिया जाएगा और प्रत्येक को उसके काम के अनुसार पारिश्रमिक दिया जाएगा। एक प्रकार से समाजवाद वैज्ञानिक समाजवाद का संशोधित रूप है। वैज्ञानिक समाजवाद से इसका मूलभूत अंतर यह है कि यह अपने लक्ष्य की प्राप्ति के लिए लोकतांत्रिक संसदीय प्रणाली एवं संवैधानिक साधनों की सार्थकता को स्वीकार करता है। वास्तव में मार्क्स् के पश्चात् अनेक संशोधनवादी विचारधाराओं ने यूरोप में जन्म लिया जिसमें कुछ नाम विशेष रूप से उल्लेखनीय हैं जैसे फेबियमवाद श्रेणी समाजवाद, श्रम संघवाद, लोकतांत्रिक समाजवाद। इसीलिए आज समाजवाद की परिभाषा करना अत्यंत कठिन तथा जटिल कार्य है। सी. ई. एम. जोड के शब्दों में समाजवाद वह टोपी है जिसका आकार ही विकृत हो गया है क्योंकि हर प्रकार का व्यक्ति इसे पहनने लगा है।

Society of nations

राष्ट्र-समाज विश्व के विभिन्न राज्य अपनी पारस्परिकता के कारण एक समूह मात्र न होकर, एक दूसरे से इतने संबद्ध हो गए हैं कि उन्हें एक समाज के रूप में देखा जा सकता है। वस्तुतः उनकी पारस्परिकता में वे सभी प्रमुख गुण विद्यमान है जो एक समाज में पाए जाते हैं-जैसे समाज हितों एवं उद्देश्यों का होना, जिनकी प्राप्ति के लिए इनमें सतत रूप से संसर्ग होना।

Sophistry

वितंडा, कुतर्क वह तर्क जो अपने आप में तो युक्तिसंगत प्रतीत होता है परंतु वास्तव में भ्रांतिमय या मिथ्या होता है।

Languages

Dictionary Search

Loading Results

Quick Search

Follow Us :   
  भारतवाणी ऐप डाउनलोड करो
  Bharatavani Windows App