भारतीय भाषाओं द्वारा ज्ञान

Knowledge through Indian Languages

Dictionary

Penis

शिश्न
नर प्राणियों में पाया जाने वाला जननांग।

Pepsin

पेप्सिन
आमाशय में पाया जाने वाला एक रस जो पाचन क्रिया में सहायक होता है।

Pepsinogen

पेप्सिनोजन
पेप्सिन से मिलता एक रासायनिक तत्त्व।

Peptic Ulcer

पेप्टिक व्रण
आमाशय थवा ग्रहणी के प्रथम भाग में पाये जाने वाला व्रण। ये तीव्र या चिरकारी होते हैं। तीव्र व्रण आमाशय में अम्ल की अधिकता (जठर अत्म्लता), औषधि-अंतर्ग्रहण तथा आमाशय में आगंतुक शल्य (foreign body) की उपस्थिति के कारण बन सकते हैं। या तो ये अपने आप एक दम ठीक हो जाते हैं या उनको चिकित्सा की आवश्यकता पड़ती है। चिरकारी (पुराने) व्रणों में उपद्रवों के होने की संभावना रहती है, जैसे छिद्रण (perforation), रक्तस्राव, (haemorrhage), आमाशय तथा ग्रहणी का संकीर्ण होना तथा जठर व्रण से पीड़ित रोगियों में कार्सिनोमा का बन जाना। ग्रहणी व्रणों में आमाशय के खाली होने पर अधिजठर क्षेत्र में पीड़ा होती है, जो आहार या भोजन के लेने के बाद शांत हो जाती है, जब कि जठर व्रणों (भेदी व्रण) में यह घाव किसी नुकीली वस्तु शरीर में घुस जाने तथा बाहर निकलने का छेद भी बन जाता है, अर्थात् इसे घाव में दो द्वार होते हैं।

Percussion

परि ताडन
कई रोगों के परीक्षण में उपयोगी विधि।

Percutaneous Nephrostomy

परक्युटेनियस नैफ्रोस्टोमी, त्वचाप्रवेशी वृक्कछेदन
शल्य क्रिया द्वारा वृक्क गोणिका से त्वचा तक मूत्र बहिर्गमन हेतु मार्ग का निर्माण।

Percutaneeous Suction Discectomy

परक्युटेनियस सक्सन डिस्सैक्टोमी
त्वचा मार्ग से मेरुदंड चक्रिका को रासायनिक तत्वों से घोलकर उसका आचूषण करना।

Percutaneous Transluminal Ballon Angioplasty

परक्यूटेनियस ट्राँसल्यूमिनल बेलून एंजियोप्लास्टी त्वचा मार्ग नलिकाओं के रास्ते धमनियों में स्थित वसा को निकालना।

Percutaneous Transtracheal Ventilation

परक्यूटेनियस ट्राँसट्रेकियल वैन्टिलेशन
एक प्रकार की शल्य क्रिया, जिसमें त्वचा मार्ग से श्वास में प्राणवायु निर्गमन हेतु पतली नलिका लगाई जाती है।

Percutaneous Transhepatic Cholangiography

परक्यूटेनियस ट्राँसहेपेटिक कोलेन्जिओग्राफी
त्वचा मार्ग से सूचिका द्वारा यकृत में रासायनिक द्रव्य डालकर पित्ताशय और पित्त-नलिकाओं का चित्रण।

Perforation

छिद्रण
यह एक शस्त्रकर्म।

Perianal Abscess

परिगुद विद्रधि
गुदा-मलाशय पर ऊपरी फोड़ा, जो गुदा के चारों ओर की ग्रन्थियों में पीप पड़ जाने के परिणामस्वरूप होता है। आगे चलकर इसके कारण भगंदर रोग हो जाता है। इस रोग के इलाज में फोड़े से पीप को बाहर निकाला जाता है।

Perianal Fistula

परिगुद नालव्रण/परिगुद नाड़ीव्रण
गुदा के चारों ओर विद्रधि उपद्रवावस्था।

Periateritis Nodosa

पर्विल परिधमनीशोथ
यह एक सूजन वाली अवस्था है, जो शरीर की छोटी या बीच के आकार की धमनियों को प्रभावित करती है। इके साथ ही तन्त्रानुसारी संक्रमण (systemic-infection) के लक्षण भी पाये जाते हैं।

Pericardial Cyst

पैरिकार्डिअल सिस्ट, हृदयावरण पुटी
हृदय के बाहरी खोल में होने वाली पुटी।

Pericardial Effusion

पैरिकार्डियल इफ्यूसन, हृदयावरण निःसरण
हृदय के चारों ओर की झिल्ली में शोथ तथा इसके कारण द्रव का एकत्रित होना।

Pericardiocentesis

परिहृद्धेधन
(1) हृदयावरण में एकत्रित द्रव पदार्थ का आचूषण।
(2) परिहृद्कोश (pericardial sac) के हृदयावरण निःसरण का चूषण। परिहृद्कोश में तरल (fluid) के बढ़ जाने से हृदसंपीड़न अर्थात् दिल पर दबाव का तीव्र संपीडन। इस क्रिया द्वारा तीव्र संपीडन को दूर किया जा सकता है।
(3) शल्य क्रिया द्वारा हृदयावरण में छेद करना।

Pericardiectomy

हृदयावरणोंच्छेदन
शस्त्रकर्म द्वारा हृदयावरण को काटकर अलग कर देना। यह शस्त्रकर्म आमतौर पर उन रोगियों में किया जाता है जो चिरकारी संकीर्णक हृदयावरण शोथ (chronic constrictive pericarditis) से ग्रसित होते हैं। यह उनके हृद् संपीडन को दूर करने के लिए किया जाता है। आमतौर पर सीधे और बायें निलयों (ventricles) की सतहों पर से रुग्ण हृदयावरण को अलग कर देना ही काफी है। पर कभी-कभी संपूर्ण हृदयावरण को भी अलग कर देना जरूरी हो जाता है।

Pericardiostomy

हृदयावरण-छिद्रीकरण
वक्ष भित्ति के जरिये परिहृद् का विवृत निकास करना। यह क्रिया उस समय की जाती है जब परिहृद्कोश में तरल का बनना चूषण के बाद बहुत जल्दी-जल्दी होने लगता है।

Pericardium

हृदयावरण, परिहृद
कशेरुकियों में हृदय तथा प्रमुख रक्त वाहिकाओं के आधार के चारों ओर की झिल्ली, जिसमें उसका तरल भरा होता हैं। इससे हृदय बिना घर्षण के धड़कता रहता है।

Languages

Dictionary Search

Loading Results

Quick Search

Follow Us :   
  भारतवाणी ऐप डाउनलोड करो
  Bharatavani Windows App