भारतीय भाषाओं द्वारा ज्ञान

Knowledge through Indian Languages

Dictionary

Rajaneetivijnan Paribhasha Kosh (English-Hindi) (CSTT)

Commission for Scientific and Technical Terminology (CSTT)

A B C D E F G H I J K L M N O P Q R S T U V W X Y Z

शब्दकोश के परिचयात्मक पृष्ठों को देखने के लिए कृपया यहाँ क्लिक करें
Please click here to view the introductory pages of the dictionary

Territorial army

प्रादेशिक सेना ऐसी स्वैच्छिक सेना जिसके सदस्य मुख्यतः नागरिक होते हैं। उनको सैन्य प्रशिक्षण दिया जाता है ताकि युद्ध अथवा आपातकालीन परिस्थितियों में उनकी सैन्य सेवाओं का उपयोग किया जा सके।

Territorial controversies

भूभागीय विवाद राज्यों के भूभाग संबंधी पारस्परिक मतभेद अथवा विवाद जिन्हें वे अंतर्राष्ट्रीय विधि के विभिन्न नियमों के अंतर्गत पारस्परिक वार्ताओं द्वारा सुलझाने का प्रयत्न करते हैं। प्रायः राज्यों के पारस्परिक दावे विरोधी ऐतिहासिक तथ्यों, खोज, आधिपत्य आदि पर आधारित होते हैं।

Territorial defence

भूभागीय रक्षा अपनी स्वतंत्रता तथा भूभागीय अखंडता की बाह्य आक्रमण से प्रतिरक्षा जिसके लिए राज्य द्वारा भू, जल तथा वायु सेनाएँ रखी जाती हैं। वर्तमान काल में राज्यों द्वारा भूभागीय रक्षा पर प्रतिवर्ष विपुल धनराशि व्यय की जाती है।

Territorial jurisdiction

भूभागीय अधिकार क्षेत्र इसका अभिप्राय उस अधिकार-क्षेत्र से है जिसमें व्यापक रूप से (1) भीतरी भूभाग, (2) अंतर्देशीय जल क्षेत्र, (3) भूभागीय समुद्र, तथा (4) एक निश्चित सीमा तक आकाशीय भाग एवं इन विभिन्न क्षेत्रों में निवास करने वाले निवासी तथा वस्तुएँ सम्मिलित होती हैं। उनमें स्थित प्रत्येक वस्तु, रहने वाले प्रत्येक व्यक्ति और प्रत्येक घटना पर राज्य के क़ानून लागू होते हैं।

Territorial sea

भूभागीय सागर, भूभागीय समुद्र दे. Territorial waters.

Territorial sovereignty

भूभागीय प्रभुसत्ता, प्रादेशिक प्रभुसत्ता किसी देश की अपने भूभाग पर संप्रभूता का होना। इसमें उसका भूमि-क्षेत्र, भूभागीय समुद्र शामिल होता है।

Territorial straits

प्रादेशिक जलडमरूमध्य विशाल जलाशय के दो खंडों को संयुक्त करने वाला वह जलडमरूमध्य या जल संधि जो राज्य के जल क्षेत्र के अंतर्गत शामिल होता है और राज्य के प्रदेश का भाग माना जाता है।

Territorial subsoil

क्षेत्रीय अधोभूमि किसी राज्य के भूभाग की वह सतह जो उस राज्य के भूतल (पृथ्वी का ऊपरी स्तर) के नीचे स्थित होती है तथा जिसका उस राज्य को पूर्ण रूप से दोहन अथवा उपयोग करने का अधिकार होता है।

Territorial waters

भूभागीय समुद्र, भूभागीय जलक्षेत्र किसी राज्य के तट से संलग्न समुद्री पट्टी जिस पर उस राज्य की संप्रभुता रहती है। भूभागीय समुद्र प्रायः कम से कम तीन मील तक विस्तृत रहता है यद्यपि इस सीमा में विभिन्नताएँ भी मिलती हैं। कुछ देश 12 मील तथा कुछ 200 मील तक के अधिकार का भी दावा करते हैं। अब तृतीय समुद्र विधि अनुबंध में इस जलक्षेत्र की सीमा 12 समुद्री मील मान ली गई है।

Territory

भूभाग, प्रदेश, राज्य क्षेत्र (1) किसी राजनीतिक सत्ता, प्राधिकरण या प्राधिकारी से संबंधित अथवा उसके अधिकार-क्षेत्र में कोई भौगोलिक क्षेत्र। (2) किसी राज्य के अधीन कोई भौगोलिक क्षेत्र जिसे आंतरिक प्रशासन के संचालन में स्वतंत्रता अथवा स्वायत्तता की कुछ मात्रा प्राप्त हो। (3) राज्य के चार तत्वों में से एक तत्व। इसका अर्थ है राज्य का भूभाग या प्रदेश। राज्य के भूभाग अथवा प्रदेश में उसका भूमि प्रदेश, भूभागी समुद्र और इनके ऊपर का आकाश तीनों शामिल हैं।

Theatre of war

युद्ध क्षेत्र वे समस्त भू, समुद्री तथा आकाशी प्रदेश जो प्रत्यक्ष रूप से युद्ध एवं विभिन्न प्रकार की युद्धात्मक कार्रवाइयों, गतिविधियों, क्रियाकलापों एवं संक्रियाओं में अंतर्ग्रस्त हो जाते हैं।

Theocratic state

धर्मतंत्रीय राज्य ऐसा राज्य जिसके शासन संचालन में धर्म और धार्मिक-अधिकारियों को प्रधानता दी जाती हो। इस प्रकार के राज्य में ईश्वर किसी दृष्टा अथवा पैग़म्बर के माधय्म से जनता के लिए अपनी विधियाँ प्रकट करता है। कुछ धार्मिक नेता, पुरोहित, पादरी और मुल्ला समाज की आवश्यकताओं के अनुरूप इन विधियों की व्याख्या करने की जिम्मेदारी अपने ऊपर ले लेते हैं। राज्य में शासनाध्यक्ष केवल राज्य द्वारा मान्य धर्म का अनुयायी ही हो सकता है और धर्म के मूलभूत सिद्धांत (जैसे कुरान या बाईबिल) समाज और राज्य के लिए सर्वोपरि माने जाते हैं। वर्तमान काल में कोई धर्मतंत्रीय राज्य का विशुद्ध उदाहरण नहीं है परन्तु अनेक इस्लामी देशों में कुरान को देश का सर्वोच्च क़ानून माना जाता है और इस्लाम देश का मान्यताप्राप्त धर्म माना जाता है।

Third estate

साधारण वर्ग, तृतीय वर्ग, जनता पारंपरिक तीन राजनीतिक वर्गों या श्रेणियों में से तीसरा वर्ग या श्रेणी। फ्रांस में ये क्लर्जी, नोबल्ज़ और कामन्स के नाम से जाने जाते थे तथा इंगलैंड में इन श्रेणियों को स्पिरिचुअल लाईस, टेम्पोरल लाईस तथा कॉमन्स कहते थे। इस प्रकार तृतीय श्रेणी में सामान्य जन आते थे।

Third internationale

तृतीय इंटरनेशनाले सन् 1919 में लेनिन द्वारा स्विद्ज़रलैंड में स्थापित विश्व के समाजवादियों अथवा साम्यवादियों का संघ। इस संघ ने मार्क्सवादी सिद्धांतों का समर्थन किया। युद्ध की अवधि में मित्र राष्ट्रों के साथ होने के कारण और उनके प्रति सद्भावना दिखाने के लक्ष्य से स्टालिन ने सन् 1943 में इस संगठन को समाप्त कर दिया। परंतु सन् 1947 में कोमिनफॉर्म के नाम से इसका पुनर्गठन किया गया।

Third world

तीसरी दुनिया द्वितीय महायुद्ध के उपरांत पूरा संसार दो शिविरों में बंट गया-एक पश्चिमी औद्योगिक लोकतंत्रीय राष्ट्र और दूसरे साम्यवादी अधिनायकवादी राष्ट्र। इसी के साथ उपनिवेशवाद का पतन होना प्रारंभ हआ और एशिया-अफ्रीका-लातिनी अमेरिका के महाद्वीपों में अनेक उपनिवेश स्वतंत्र अथवा स्वाधीन हुए जो आर्थिक दृष्टि से अविकसित और सामाजिक दृष्टि से पिछड़े हुए थे। प्रायः इन देशों को “तीसरी दुनिया” कहा जाता है।

Timocracy

सम्मान तंत्र प्राचीन यूनानी विचारकों के अनुसार वह राजतंत्र जिसमें सार्वजनिक पद के लिए अर्हता सम्पत्ति अथवा सम्मान पर आधारित होती थी।

Totalitarianism

सर्वाधिकारवाद वह अधिनायकवादी व्यवस्था जिसके अंतर्गत राज्य सामाजिक और आर्थिक जीवन के सभी पक्षों को अपने हाथों में समेट लेने का प्रयत्न करता है। सर्वाधिकारवाद उदारवाद के प्रतिकूल है। उदारवाद के अंतर्गत राज्य को केवल कुछ ही कार्य सौंपे जाते हैं और शेष कार्य व्यक्ति अथवा समाज के लिए छोड़ दिए जाते हैं। फासिस्ट इटली, नाजी जर्मनी सर्वाधिकारवादी राज्यों के वर्तमान उदाहरण हैं।

Totalitarian state

सर्वाधिकारी राज्य वह राज्य जिसमें किसी निरंकुश नेता अथवा निरंकुश सोपानिकी का केंद्रीयकृत शासन तथा नियंत्रण होता है और जो जीवन के सब क्षेत्रों तथा सामाजिक, आर्थिक, सांस्कृतिक क्षेत्रों पर कड़ा नियंत्रण रखता है और किसी प्रकार की व्यक्तिगत स्वतंत्रता सहन नहीं करता।

Total mobilization

पूर्ण लामबंदी राज्य की समस्त सेना की विभिन्न टुकड़ियों, जंगी बेड़ों इत्यादि को युद्ध करने के लिए एकत्रित करने तथा तत्परता की स्थिति में रखने का कार्य।

Total war

पूर्णयुद्ध, सर्वागीण युद्ध, सकल युद्ध युद्ध की वर्तमानकालीन अवधारणा जिसके अनुसार युद्धकारी राज्यों की न केवल थल, नौ तथा वायु सेनाएँ बल्कि उनकी समग्र जनता भी किसी न किसी रूप में युद्ध की संक्रिया में भागीदार समझी जाती है। पूर्ण युद्ध के अंतर्गत अणुबमों, विषैली गैसों और प्रेक्षपास्त्रों के निस्संकोच प्रयोग से सैनिक-असैनिक लक्ष्यों, योधी और अयोधी, तटस्थ और शत्रु में भेद नहीं रह जाते और राज्य के समस्त संसाधन, उत्पादन व्यवस्था, यातायात और संचार, साधन, आर्थिक प्रणाली, आदि युद्ध के लिए समर्पित हो जाते हैं।

Languages

Dictionary Search

Loading Results

Quick Search

Follow Us :   
  भारतवाणी ऐप डाउनलोड करो
  Bharatavani Windows App